ब्रह्माण्ड के 5 सबसे अजीब ग्रह | जिनके बारे में जानकार आप चौंक जाओगे

126

अजीब गृह क्या वास्तव में हमारे इस ब्रहमांड में हैं या फिर बस ये एक कल्पना है| अन्तरिक्ष की ओर देखकर हम हमेशा यही सोचते है कि इस अथाह ब्रह्माण्ड में ना जाने कितने ही रहस्य छिपे हुए हैं| हम पृथ्वी पर रहते हुए इस ब्रह्माण्ड की हर रचना को देखना चाहते है क्योंकि अन्तरिक्ष हमें हमेशा से ही रोमांचित करता आया है| हमने हमेशा से ही ये सुना है कि अन्तरिक्ष में बहुत ही अजीब ग्रह हैं और अजीब-अजीब जगहें हैं जैसे कि-

  • शनि ग्रह के चाँद टाइटन पर मीथेन की नदियाँ बहती हैं
  • मंगल की सतह लोह कणों के कारण लाल दिखाई देती है
  • ब्रहस्पति ग्रह के चाँद यूरोप पर पृथ्वी से भी ज्यादा पानी है
  • अगर क्षुद्र गृह पट्टी में इतने क्षुद्र ग्रह हैं तो अंतरिक्षयान वहां से कैसे निकल जाते हैं

और ऐसे ही कई सवाल हैं जो हमें अन्तरिक्ष के बारे में सोचने पर मजबूर कर देते हैं| अगर बात करें ग्रहों की तो अन्तरिक्ष में बहुत से ऐसे गृह हैं जिनके बारे में जानकार आप जरुर चौंक जाओगे | आइये जानते हैं उन अजीबो-गरीब ग्रहों के बारे में जो सच में हमारे ब्रहमांड में मौजूद हैं|

1J1407b ग्रह

An artist’s impression of J1407b viewed from a moon
By Tiouraren – Own work, CC BY-SA 4.0, Link

J1407b नाम का ये ग्रह पृथ्वी से 434 प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित है | इस ग्रह को खास बनाती है इस ग्रह के विशाल छल्ले जिन्होंने इस गृह को घेर के रखा हुआ है | जब बात आती है किसी ग्रह के छल्लों की तो हमारे अपने सौरमंडल में शनि ग्रह के छल्ले हमें सबसे ज्यादा रोमांचित करते हैं , लेकिन अगर बात करें J1407b ग्रह के छल्लों की तो इस ग्रह के छल्ले शनि के छल्लों से कई गुना ज्यादा बड़े हैं | अगर ये विशाल ग्रह हमारे सौरमंडल में शनि ग्रह की जगह हो तो इसके छल्ले पृथ्वी से आसानी से देखे जा सकेंगे, सिर्फ इतना ही नहीं ये छल्ले पृथ्वी से इतने विशाल दिखाई देंगे कि इसके सामने पूर्णिमा का चाँद भी फीका पड़ जायेगा|

Video on J1407b Planet

2GJ1214b ग्रह

Artist’s impression of the planet with possible deep oceans
By Tyrogthekreeper at English Wikipedia, CC BY-SA 3.0, Link

GJ1214b नाम का ये ग्रह बेहद ही ख़ास है| वैज्ञानिकों के अनुसार इस गृह पर जमीन कहीं भी नहीं है, तो अगर आपको लग रहा होगा कि इसमें तो कुछ भी ख़ास नहीं है क्योंकि हमारे सौरमंडल में ही कई ऐसे ग्रह मौजूद हैं जहां जमीन नहीं है वो गैस के बने हुए हैं जैसे कि – ब्रहस्पति ग्रह, शनि ग्रह, नेपच्यून ग्रह और यूरेनस ग्रह | तो आखिर वो कौन सी बात है जो GJ1214b को खास बनाती है|

ख़ास बात ये है कि इस गृह पर भले ही जमीन नहीं है लेकिन इस ग्रह पर पानी बहुत ज्यादा मात्र में मौजूद है| ये पूरा का पूरा ग्रह ही पानी से ढका हुआ है यनि एक ऐसा ग्रह जिस पर सिर्फ समुन्द्र हैं जमीन का कोई नामो-निशान नहीं| इस ग्रह की तुलना आप हमारे ही सौरमंडल के ग्रह ब्रहस्पति के एक चाँद यूरोप से कर सकते हैं जोकि पूरी तरह बर्फ से ढका हुआ है|

355 कैंक्री इ (55 Cancri E)

55 कैंक्री इ (55 Cancri E) नाम का ये ग्रह पृथ्वी से महज 40 प्रकाश वर्ष की दूरी पर कर्क नक्षत्र (Cancer constellation) में स्थित है| इसका आकार हमारी पृथ्वी से दो गुना बड़ा है और ये पृथ्वी से आठ गुना ज्यादा भारी है| इस ग्रह का घनत्व भी हमारी पृथ्वी से दो गुना ज्यादा है| 55 कैंक्री इ (55 Cancri E) नाम का ये ग्रह जिस तारे का चक्कर लगाता है उसमें हमारे सूर्य के मुकाबले कार्बन की मात्र बहुत ही ज्यादा है और खुद 55 कैंक्री इ (55 Cancri E) का ज्यादातर द्रव्यमान कार्बन का ही बना है| ये ग्रह अपने तारे का चक्कर बेहद ही नजदीक से लगता है जिसकी वजह से इसकी सतह का तापमान भी बहुत ज्यादा है| ये ग्रह महज 18 घंटों में अपने तारे का एक चक्कर पूरा कर लेता है| इस ग्रह की सतह का तापमान तक़रीबन 2400° सेल्सिअस रहता है और वायुमंडलीय दबाव भी असामान्य रूप से बेहद ज्यादा है| जिस कारण इस ग्रह पर इस बात की सम्भावना बेहद ज्यादा है कि इस ग्रह की सतह हीरों की बनी हुई हो| वहां हीरे ही पिघलते हों, हीरे ही बरसते हों| वाह क्या खूब है ये ग्रह भी|

4HAT p 7b ग्रह

Credit: NASA

HAT p 7b नाम का ये गृह सिग्नस नक्षत्र (Cygnus Constellation) में पाया जाता है| ये ग्रह हमारी पृथ्वी से 1000 प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित है| इस ग्रह के रात्रि साइड (Night Side) के वातावरण में अल्युमिनियम ऑक्साइड यनि कोरन्डम (Corundum) की मात्र बहुत ज्यादा है| रूबी और नीलम जैसे कीमती पत्थर कोरन्डम की वजह से ही बनते हैं| तो इसकी संभावना बहुत ही ज्यादा है कि इस विचित्र जगह पर कोरन्डम की वजह से रूबी और नीलम की बारिश होती होगी| तो अब मंगल को छोड़कर यहाँ जाने का प्लान बनाओ

5PSR J1719-1483b ग्रह

By NASA/JPL-Caltech/R. Hurt (SSC) – http://photojournal.jpl.nasa.gov/catalog/PIA08042, Public Domain, Link

ये ग्रह एक ऐसी वस्तु का चक्कर लगाता जो पूरे ब्रह्माण्ड में सबसे अधिक घनत्व वाली वस्तुओं में गिनी जाती है| एक पल्सर – एक मरा हुआ दानव तारा जो मरने के बाद अपने ही गुरुत्वाकर्षण में ढह गया है| PSR J1719-1483 नाम का ये पल्सर आकार में महज 12 मील का ही है लेकिन उसका भार हमारे विशाल सूर्य से 1.5 गुना ज्यादा है, इससे आप अंदाजा लगा ही सकते हैं कि इस पल्सर का गुरुत्व कितना शक्तिशाली होगा| इसके छोटे आकार की वजह से PSR J1719-483b नाम का ग्रह इस पल्सर का एक चक्कर सिर्फ 2 घंटे में ही पूरा कर लेता हैं| है न ये एक अजीब बात कि एक ऐसा तारा जो हमारे सूरज से डेढ़ गुना ज्यादा भारी है लेकिन उसका ग्रह सिर्फ 2 घंटे में ही उसका चक्कर लगा लेता है जबकि हमारी पृथ्वी को ऐसा करने में 365 दिनों का एक लम्बा समय लगता है| इस ग्रह की एक और खास बात ये कि इसका नाम बहुत ही बड़ा है|

ब्रह्माण्ड के 5 सबसे अजीब ग्रह – अधिक जानकारी के लिए विडियो देखें